Monday, 15 October 2012

मौसम


पतझड़ उतरा ही है अभी 
अौर पेड़ों के सजने में
बाकी है कुछ िदन

एक िदन अचानक
उसका जाना
आिखरी बार हुआ

जब 
पेडों पर िखल रहे होंगे पत्ते 
वह जा चुकी होगी दूर